पशु चिकित्सा मोबाइल वैन आरम्भ करने वाला पहला राज्य बना हिमाचल-वीरेन्द्र कंवर

HNN / बिलासपुर

श्री नैना देवी जी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 35 लाख की लागत से बनने वाले पंचायत घर तरसूह एवं 15 लाख रुपये की राशि से रा.व.मा.पा. तरसूह के खेल स्टेडियम का विधिवत पूजा-अर्चना कर शिलान्यास करने के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पशुपालन, कृषि एवं मत्स्य मंत्री वीरेन्द्र कंवर ने कहा कि इस भवन में लोक मित्र केन्द्र की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके अतिरिक्त भारत निर्माण सेवा केन्द्र योजना के तहत 10 लाख की अतिरिक्त सुविधा भी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 412 नई पंचायतों का गठन किया गया है और इन पंचायतों में जहां-जहां जमीन उपलब्ध होगी उन सभी पंचायतों के लिए 30-30 लाख की राशि भवन निर्माण के लिए स्वीकृत की जा रही है।

उन्होंने कहा कि पशुचिकित्सा मोबाईल वैन आरम्भ करने वाला हिमाचल पहला राज्य है जिसके प्रथम चरण 44 खंडों को शामिल कर 7 करोड़ रुपये खर्च किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार देने के लिए सरकार 30 हजार नए पद सृजित कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार बेसहारा गौवंश के लिए गौसदनों में लाने के लिए प्रतिबद्ध है जिसके लिए उन्होंने गौ सेवा आयोग का गठन कर इस दिशा में आगे बढ़े है। उन्होंने बताया कि निजी गौ-सदनों में आश्रित गौवंश के लिए दिए जाने वाले अनुदान को 500 रुपये प्रति गौवंश प्रतिमाह से बढ़ाकर 700 रुपये किया गया है।

उन्होंने कहा कि इस वित्त वर्ष में 31 करोड़ से अधिक की राशि गौ सदनों के निर्माण के लिए खर्च किए गए है। वर्ष 2022-23 में पांच बड़ी गौ अभयारण्यों एवं गौ सदनों की स्थापना तथा हिमाचली पहाड़ी गाय के संरक्षण हेतु एक उत्कृष्ट फार्म स्थापित किए जा रहे जिसके अंतर्गत गौ सदनों में 6 हजार से 20 हजार गाय रखने की क्षमता बढ़ाई जा रही है और शीघ्र ही अन्य अभयारण्यों का निर्माण होने से 5 हजार की अतिरिक्त क्षमता बढ़ाने की योजना भी चलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि 10 करोड़ रुपये की लागत से ‘राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम’ चरण-3 के अंतर्गत 5 लाख गाय व भैसों को निःशुल्क कृत्रिम गर्भाधान की सुविधा प्रदान की जाएगी।

इसके अतिरिक्त 7 करोड़ की लागत से लिंग क्रमबद्ध वीर्य पर आधारित कृत्रिम गर्भाधान की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि पशु पालकों की सुविधा के लिए टाॅल फ्री नम्बर उपलब्ध करवाया जा रहा है ताकि पशुओं के बीमार होते ही पशुपालकों को अपनी बीमार पशुओं के लिए पशु वैन के साथ डाॅक्टर की सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्ष में दूध उत्पादों के लिए दूध के रेट 9 रुपये बढ़ाए गए है।


Posted

in

,

by

Tags: