मूर्ति स्थापना अनुष्ठान में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब 

HNN / संगड़ाह

शिव मंदिर जरवा के पुनर्निमाण के बाद मूर्ति स्थापना की गई। ग्रामीणों ने बताया कि करीब 20 लाख की लागत से इस मंदिर का निर्णय किया गया। सुबह करीब 7 बजे से पहले मंदिर की छत पर खुनेवड स्थापित करने के बाद प्राण प्रतिष्ठा की रस्म अदा की गई। इस रस्म को निभाने के लिए 4 गांव के लोगों की मौजूदगी मे भोले शंकर के जयकारों के साथ खुनेवड लगाने का कार्य शुरू हुआ।

पारंपरिक वाद्य यंत्रों की धुन पर सैकड़ों लोगो ने यह रस्म अदा की। धार्मिक अनुष्ठान में 4 हजार के करीब लोगों ने भाग लिया। इस दौरान रासा नृत्य पेश करके ख़ूब मनोरंजन किया। पुजारी दुलाराम शर्मा ने बताया कि सदियों पहले गांव के एक व्यक्ति को खेत में हल जोतते हुए एक शिव प्रतिमा मिली थी। उसके बाद चार गांव के लोगो ने जरवा में एक शिव मंदिर का निर्माण किया और मूर्ति को मंदिर में स्थापित कर दिया।

सुरेश सिंगटा ने बताया कि पुराना मंदिर क्षतिग्रस्त हो गया था तथा 4 वर्ष पहले नए मंदिर बनाने का काम शुरू हुआ था। ग्रामीणों ने बताया कि मंदिर निर्माण के लिए कारीगरों को किन्नौर से बुलाया गया था। मंदिर में अद्भुत काष्ठकला की मिसाल कायम की गई है। निर्माण कार्य पर करीब 20 की राशि खर्च की गई है।