पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने मुच्छाली ग्राम पंचायत में ठोस कचरा प्रबंधन संयत्र का किया शुभारंभ

BySAPNA THAKUR

Oct 4, 2021

HNN/ ऊना वीरेंद्र बन्याल

ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने मुच्छाली ग्राम पंचायत में लगभग पचास लाख रुपए की लागत से बने ठोस कचरा प्रबंधन संयंत्र का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि ठोस कचरा प्रबंधन संयंत्र में 5 पंचायतों के कचरे का निपटारा किया जाएगा। ग्राम पंचायत मुच्छाली, धनेत, जसाणा, डोहगी एवं हटली से डोर टू डोर कचरा एकत्र कर संयंत्र में लाया जाएगा जहां इसका निपटारा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि संयंत्र में कंपोस्टर, श्रेडर और कंप्रेसर मशीनें स्थापित की गई हैं और डोर-टू-डोर गार्बेज कलेक्शन के लिए एक वाहन भी खरीदा गया है।

वीरेंद्र कंवर ने कचरा संयंत्र तक बेहतर रास्ता बनाने के लिए तीन लाख रुपये स्वीकृत किए। उन्होंने कहा कि यहां पर एक बेहतर मोक्षधाम भी बनाया जाएगा जिसके लिए 27 लाख रुपए का एस्टीमेट तैयार किया गया है। उन्होंने पंचायत को यह धनराशि प्रदान करने की घोषणा की और साथ ही कहा कि यहां पर एक पंचवटी वाटिका भी बनाई जाएगी जिसके लिए उन्होंने 15 लाख रुपए स्वीकृत किए। उन्होंने कहा कि कूड़ा संयंत्र के पास शौचालयों का निर्माण भी किया जाएगा जिसके लिए उन्होंने तीन लाख देने की घोषणा की।

ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री ने कहा कि पूरे प्रदेश में प्रथम चरण में 87 ब्लॉकों में कचरा निष्पादन केंद्र स्थापित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि स्वच्छता गांधी का विचार था और उन्होंने कहा था कि जहां स्वच्छता होती है वहां भगवान का वास होता है। कंवर ने कहा कि पंचायतें कूड़े का प्रबंधन करके अपनी आमदनी भी बढ़ा सकती है पंचायतों में एकत्र होने वाले प्लास्टिक कचरे को सीमेंट फैक्ट्रियों को बेचा जाएगा। वीरेंद्र कंवर ने कहा बंगाणा में आज आधुनिक सुविधाएं दी जा रही हैं।

आईटीआई बंगाणा के समीप ही नया बस स्टैंड बनाया जाएगा जिसके लिए भूमि का चयन कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि मुच्छाली ग्राम पंचायत के पंचायत घर के लिए 90 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। इसके अलावा बंगाणा बाजार में पैदल यात्रियों के लिए एक करोड़ 21 लाख रुपए की लागत से फुटपाथ का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बंगाणा में ही जायका परियोजना के तहत ट्रेनिंग सेंटर भी खोला जाएगा। ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा ढाई करोड़ रुपए की लागत से अग्निशमन केंद्र के नए भवन का निर्माण किया जा रहा है।

बंगाणा पहला ऐसा ग्रामीण क्षेत्र है जहां पर तेरह करोड रुपए की लागत से सीवरेज व्यवस्था का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह बंगाणा में ही सब जज कोर्ट खोलने के लिए प्रयासरत हैं, साथ ही थानाकला में विद्युत विभाग का डिवीजन भी खोलने की कोशिश की जा रही है। मंत्री ने कहा कि बंगाणा में 19 करोड़ की लागत से मिनी सचिवालय तथा लगभग 10 करोड़ की लागत से बीडीओ कार्यालय का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह दोनों आधुनिक भवन मार्च 2022 तक बनकर तैयार कर दिए जाएंगे जिससे यहां के लोगों को बेहतर सुविधा मिलेगी।

The short URL is: