मैरीन लाईफ साईंसेज ने किया अपने दूसरे यूनिट का शुभारंभ

HNN/ बद्दी

औद्योगिक क्षेत्र बद्दी के तहत मंधाला स्थित मैरीन मेडिकेयर 250 लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान करेगी। रविवार को फिलिपियन एंबेसी के भारत में तैनात अंबेजडर रमन एस भगत सिंह जेआर ने पौधारोपण कर उद्योग का शुभारंभ किया। इससे पहले उद्योग में हवन यज्ञ के उपरांत पूर्णाहूति डाली गई, हवन यज्ञ में उद्योग प्रबंधक एसके गर्ग समेत सभी डायरेक्टरों ने हिस्सा लिया। मैरीन मेडिकेयर के डायरेक्टर एसके गर्ग ने बताया कि 10 करोड़ की लागत से स्थापित मैरीन मेडिकेयर में टैबलेट व कैप्सूल बनाएगी।

गर्ग ने बताया कि उन्होंने अपना पहला यूनिट वर्ष 2015 में बद्दी में स्थापित किया था जिसमें साफ्ट जैल, कैप्सूल व ऑयनमेंट बनाया जाता है। वर्ष 2005 में पंचकूला से फार्मा ट्रेडिंग में रनबेक्सी की डिस्ट्रीब्यूशन से फार्मा जगत में कदम रखने वाले एसके गर्ग आज अपने दोनों फार्मा यूनिट में 400 लोगों को रोजगार दे रहे हैं। इसके अलावा उनका परिवार मोनो कार्टन, फाईल पैकेजिंग और गत्ता उद्योग भी चला रहा है।

एसके गर्ग ने बताया कि फार्मा में आने का उनका मकसद मानवता की सेवा है। कभी भी दवाओं के निर्माण के दौरान गुणवत्ता से समझौता नहीं किया गया और न ही आगे किया जाएगा। यूनिट 2 मैरीन मैडिकेयर एक अत्याधुनिक टेबलेट व कैप्सूल यूनिट है जिसमें हाईटेक मशीनरी स्थापित की गई है। इस मौके पर फिलिपियन एंबेसी के अंबेजडर रमन एस भगत सिंह जेआर ने कहा कि आज भारत फार्मा जगत में एक नई शक्ति बनकर उभरा है।

आज विश्व के मानचित्र पर बीबीएन का नाम अपनी उत्पादन शक्ति और गुणवत्ता के दम पर चमक रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड के दौरान भारतीय कंपनियों ने वेक्सीन का उत्पादन कर विश्व में अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने मैरीन मैडीकेयर के प्रबंधकों को शुभकामनाएं दी और कहा कि दवा आम आदमी की जीवन रक्षक है और वह अपनी गुणवत्ता को बरकरार रखें।