The-mission-to-bring-Indian.jpg

भारतीयों को लाने का मिशन तेज, यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजे जाएंगे चार केंद्रीय मंत्री

यूक्रेन में फंसे भारतीयों को स्वदेश वापस लाने के लिए भारत सरकार ने मिशन तेज कर दिया है। यूक्रेन में भारतीयों के साथ मारपीट के वीडियोस भी अब सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे हैं जिसके चलते अभिभावकों की चिंताएं लगातार बढ़ती ही जा रही है। इसी बीच अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाई लेवल मीटिंग की है।

मीटिंग में फैसला लिया गया है कि यूक्रेन से छात्रों की निकासी के लिए 4 केंद्रीय मंत्री यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजे जाएंगे। सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरण रिजिजू व जनरल वीके सिंह यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजे जाएंगे। ये मंत्री यूक्रेन में फंसे भारतीय लोगों से बातचीत और उनको निकालने के प्रबंध कराएंगे। सूत्रों के मुताबिक, इनको भारत का ‘विशेष दूत’ बनाकर भेजा जाएगा।

20 हजार से ज्यादा नागरिक फंसे थे
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के बयान के मुताबिक, छात्रों व अन्य लोगों को मिलाकर करीब 20 हजार से ज्यादा भारतीय यूक्रेन में रहते हैं। भारत ने कहा था कि, सभी भारतीय नागरिकों की सुरक्षित निकासी हमारा प्रयास है। अभी भी करीब 18 हजार भारतीय यूक्रेन में फंसे हुए हैं। भारतीय दूतावास की ओर से लगातार इन छात्रों की सुरक्षा के लिए एडवाइजरी जारी की जा रही है।


Posted

in

by