Bhatgarh-cooperative-societ.jpg

घोटाला छुपाने के लिए असंवैधानिक तरीके से करवा दिए सहकारी सभा के चुनाव

HNN / श्री रेणुका जी

श्री रेणुका जी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत भाट गढ़ पंचायत में बहुउद्देशीय सहकारी सभा में हुए चुनावों पर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। सहकारी सभा के प्रधान रहे अमर सिंह तथा सदस्यों को सूचित किए बगैर सचिव पर असंवैधानिक तरीके से चुनाव कराने के आरोप लगे हैं। वीरवार को मामले की बाबत बहुउद्देशीय सहकारी सभा सीमित के अध्यक्ष अमर सिंह चौहान की अध्यक्षता में गांव के प्रतिनिधि मंडल द्वारा उपायुक्त सिरमौर आरके गौतम को शिकायत पत्र भी सौंपा गया।

शिकायत पत्र में सहकारी सभा के सचिव सोहन सिंह पर लाखों रुपए का गबन का आरोप भी लगाया गया है। इस बाबत जानकारी देते हुए सहकारी सभा के अध्यक्ष अमर सिंह ने बताया कि किए गए घोटाले को छुपाने के लिए सचिव ने असंवैधानिक तरीके से सहकारी सभा का चुनाव भी करवा डाला है। उन्होंने बताया कि 27 जून 2022 को सचिव के द्वारा पंचायत के कुछ लोगों के साथ मिलकर कार्यालय के गोदाम का ताला तोड़कर रिकॉर्ड निकाला।

यही नहीं प्रधान को सूचित किए बगैर इंस्पेक्टर की मिली भक्त से गैर कानूनी ढंग से चुनाव भी संपन्न करवा दिए गए। उन्होंने बताया कि पंचायत के लोग उस समय हैरान रह गए जब उन्हें पता चला कि बगैर किसी को कोई सूचना दिए सहकारी सभा के चुनाव करवा दिए गए। उन्होंने इसे एक बड़ी साजिश करार देते हुए उच्च स्तरीय जांच की मांग भी की है। हालांकि इस मामले की शिकायत जिला सहायक पंजीयन अधिकारी को भी दी गई थी। उन्होंने बताया कि जांच हेतु इंस्पेक्टर भी नियुक्त किया गया था। उन्होंने इंस्पेक्टर द्वारा की गई कार्यवाही पर भी सवालिया निशान लगाए हैं।

प्रतिनिधि मंडल का कहना है कि इंस्पेक्टर के द्वारा जांच में ना तो प्रधान और ना ही सदस्यों आदि के बयान दर्ज करवाए गए।
सहकारी सभा के प्रधान अमर सिंह ने बताया कि सचिव सोहन सिंह 15 नवंबर 2019 से लेकर 2022 तक पूरी तरह निष्क्रिय रहा है। सभा कमेटी के द्वारा सचिव को हिसाब किताब की बाबत जानकारी देने के लिए भी कहा गया। उन्होंने बताया कि जब सचिव ने सहकारी सभा के पैसे के बारे में कोई जानकारी नहीं दी तो उन्होंने बैंक में जाकर इसकी डिटेल निकलवाई।

बैंक में यह भी पता चला कि सचिव सोहन सिंह के द्वारा प्रधान के फर्जी हस्ताक्षर करके 50,000 निकाले गए। किसी बड़े घोटाले की आशंका को लेकर सहायक पंजीयन अधिकारी को इसकी सूचना भी दी गई थी। वीरवार को इस पूरे घटनाक्रम की लिखित शिकायत उपायुक्त सिरमौर को सौंपी गई। पंचायत के लोगों ने उपायुक्त सिरमौर से असंवैधानिक तरीके से कराए गए चुनावों को तत्काल प्रभाव से निरस्त करने के लिए कहा है। उन्होंने यह भी कहा कि बहुउद्देशीय सहकारी सभा के चुनाव किसी उच्च अधिकारी की देखरेख में फिर से संपन्न करवाए जाएं।

उधर, उपायुक्त सिरमौर आरके गौतम ने कहा है कि शिकायत पत्र मुझे मिल गया है। उन्होंने कहा एआरसीएस को जांच के लिए आदेश जारी किए गए हैं। जांच में दोषी पाए जाने वालों को बिल्कुल भी बख्शा नहीं जाएगा।

This error message is only visible to WordPress admins

Cannot collect videos from this channel. Please make sure this is a valid channel ID.