HNN/ शिमला

शीतकालीन छुट्टियों वाले सीबीएसई और आईसीएसई के निजी स्कूलों के लिए आज बड़ा फैसला सरकार द्वारा लिया गया है। निजी स्कूलों में प्राइमरी कक्षाओं के विद्यार्थी आएंगे या नहीं इसका फैसला अब स्कूल प्रबंधन खुद ले सकता है। इस बाबत शनिवार को उच्च शिक्षा निदेशालय की ओर से छूट दे दी गई है।

बता दें कि छोटे बच्चों के लिए स्कूल खुलने के फैसले से निजी स्कूलों के अभिभावक बेहद नाराज थे। जिसके चलते अभिभावकों ने इसका विरोध किया था। ऐसे में प्रदेश सरकार ने स्पष्ट किया है कि निजी स्कूलों में प्राइमरी कक्षाओं के विद्यार्थियों का आना अनिवार्य नहीं है।

यानी कि निजी स्कूलों में प्राइमरी कक्षाओं के विद्यार्थियों को स्कूल बुलाने का फैसला निजी स्कूलों के प्रिंसिपल ले सकते है। बता दें कि 15 नवंबर से प्राइमरी कक्षाओं के विद्यार्थियों की नियमित कक्षाएं लगनी है।

ऐसे में शनिवार को उच्च शिक्षा निदेशालय की ओर से उपायुक्त शिमला, सभी जिला उपनिदेशकों और निजी स्कूलों के प्रिंसिपलों को पत्र जारी कर निजी स्कूलों में प्राइमरी कक्षाओं के विद्यार्थियों को स्कूल बुलाने का फैसला स्वयं लेने की छूट दे दी है।