नवरात्र मेलों के दौरान दर्शन पर्ची से होंगे मां के दर्शन

ByPRIYANKA THAKUR

Sep 25, 2021

लंगर, ढोल-नगाड़े व चिमटे के प्रयोग पर रहेगा प्रतिबंध

HNN / ऊना, वीरेंद्र बन्याल

छिन्नमस्तिका धाम मंदिर माता चिंतपूर्णी में 7 से 14 अक्तूबर तक आयोजित होने वाले असूज नवरात्र मेले की तैयारियों को लेकर उपायुक्त डीसी राघव शर्मा ने बताया कि मेला के सफल आयोजन के लिए एसडीएम अंब को मेला अधिकारी जबकि एसडीपीओ अंब को पुलिस मेला अधिकारी तैनात किया गया है। इसके अलावा उनकी सहायता के लिए चार कार्यकारी दंडाधिकारी तैनात रहेंगे। उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र को चार सैक्टरों में बांटा गया है। मेला क्षेत्र में शांति एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस व होमगार्ड के लगभग 300 महिला व पुरुष कर्मी तैनात किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि मेले के दौरान स्पेशल टास्क फोर्स गठित करके भीक्षावृति पर कड़ी नजर रखी जाएगी और यदि कहीं कोई बच्चों से भीख मंगवाते हुए पकड़ा जाता है तो उसके खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत नियमानुसार कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि माता के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं को दर्शन पर्ची लेनी होगी। दर्शन पर्ची के लिए शंभू बैरियर और चिंतपूर्णी सदन में रजिस्ट्रेशन काउंटर स्थापित किए जाएंगे। आवश्यकता पड़ने पर पंजीकरण काउंटरों की संख्या बढ़ाई जा सकती है।

उन्होंने बताया कि मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को कोविड अनुरुप व्यवहार और सुरक्षा उपायों की कड़ाई से अनुपालना करनी होगा। उन्होंने बताया कि मेला आयोजन में कोविड प्रोटोकाॅल और एसओपी और दर्शनों के लिए समयावधि को लेकर जल्द ही आदेश जारी कर दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि मेला के दौरान लाउड स्पीकर, ढोल, नगाड़ों, चिम्टों के प्रयोग पर प्रतिबंध रहेगा। इसके अलावा लंगर लगाने और मंदिर में नारियल ले जाने पर भी पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। 

The short URL is: