जीवन की कठिन परिस्थियों में हार ना मानने वाली नारी शक्ति को सलाम

BySAPNA THAKUR

Mar 10, 2022
Salute-to-the-power-of-wome.jpg

HNN/ नाहन

अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर श्री साई अस्पताल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। नारी शक्ति को समर्पित इस कार्यक्रम में श्री साई ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल द्वारा जीवन में कठिन परिस्थियों में भी हार ना मानने वाली दो महिलाओं का चुनाव कर उन्हें विशेष सम्मान से सम्मानित किया। इसके साथ-साथ कार्यक्रम में अस्पताल में सभी महिला कर्मचारियों को प्रशस्तिपत्र दे कर सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम में भाजपा महिला मोर्चा की जिला सचिव पूजा तोमर ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।

सम्मानित महिला में पहली महिला श्री साई अस्पताल में कार्यरत ओ टी टेक्निशन कुमारी संदीपा है, जो पिछले 15 सालों से श्री साई ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल में बतौर ओ टी टेक्निशन अपनी सेवाएं दे रही है। कुमारी संदीपा ने स्वास्थ्यकर्मी के पेशे को चुन कर मानव सेवा में अपना जीवन समर्पित कर दिया। अपने सेवा काल में संदीपा ने बहुत से मरीजों की जान बचाने में सहायता की। कभी कभी मुश्किल परिस्थिति में संदीपा ने अकेले ही मरीज की जान बचाई है।

ओ टी टेक्निशन कुमारी संदीपा ने बताया कि स्वास्थ्यकर्मी का प्रोफेशन मिलने पर वो खुद को बहुत भाग्यशाली समझती है। उन्हें भगवान ने दुखी एवं रोगी व्यक्ति की मदद करने के लिए चुना है। अपने जीवन में कभी भी किसी भी समस्या से घबराती नहीं है बस उनका एक ही उद्देश्य होता है कि व्यक्ति की जान बचा कर उन्हें स्वस्थ जीवन देना है और इसी उदेश्य की पूर्ति के लिए संदीपा दिन रात निस्वार्थ भाव से तत्पर रहती है।

श्री साई ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल संदीपा के इस जज्बे को सलाम करता है। इनके साथ सम्मानित महिला में दूसरी महिला है सारिका नारंग। कोविड काल में परिवार के साथ मजबूती से खड़ी सारिका नारंग ने हर मुश्किल का सामना दृढ़ता से किया और परिवार को भी टूटने नहीं दिया। परिवार की ढाल बनी सारिका ने बताया कि ज़िंदगी में किसी भी प्रकार की मुश्किल क्यों न आएं हमे कभी भी नकारात्मक सोच को अपने अंदर नहीं पनपने देना है।

यदि आप सकारात्मक सोच वाले व्यक्ति है तो जीवन में कभी हार नहीं सकते। सारिका ने बताया हमें सबसे पहले खुद पर विश्वास होना चाहिए और एक आत्म विश्वासी महिला जीवन के हर मुश्किल दौर को पार कर सकती है। दो बार कोविड आने पर उनका पूरा जीवन बदल गया। लेकिन उसके बावजूद भी वो हारी नहीं और नहीं परिवार के किसी सदस्य को टूटने दिया। श्री साई ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल्स सारिका नारंग के इस जज्बे को सलाम करता है।

वहीँ श्री साई अस्पताल के निदेशक डॉ दिनेश बेदी ने वीरवार को कहा कि स्त्री की तुलना देवी से की जाती है जिस प्रकार देवी के स्वरुप में देवी के कई हाथ दिखाए जाते हैं उसी प्रकार हर स्त्री एक साथ बहुत से काम करती है। उन्होंने कहा कि हर महिला को निडरता से आगे बढ़ना चाहिए और कभी भी खुद को किसी से कम नहीं आंकना चाहिए।

The short URL is: