HNN/ सोलन           

जन-जन तक निःशुल्क विधिक सेवाओं के लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से कार्यान्वित किए जा रहे अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान के अन्तर्गत सोलन जिला में गत एक सप्ताह में 32 शिविर, 13 डोर-टू-डोर शिविर आयोजित किए गए हैं। यह जानकारी यहां जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी कपिल शर्मा ने दी।

कपिल शर्मा ने कहा कि इन शिविरों के माध्यम से अभी तक 34 गांवों में लोगों को निःशुल्क विधिक सेवाओं की जानकारी प्रदान की गई ताकि कोई भी व्यक्ति न्याय से वंचित न रहे। उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा इसके साथ जिला कारागर सोलन, उप कारागार नालागढ़, शेल्टर होम कथेड़, बाल आश्रम अर्की, शांति निकेतन आश्रम सुबाथू, विभिन्न विद्यालयों, महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में भी विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किए गए।

इनमें लगभग 1600 व्यक्तियों को अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान के बारे में अवगत करवाया गया। उन्होंने कहा कि इन शिविरों का मुख्य उद्देश्य जन-जन विशेष रूप से ग्रामीण, जनजातीय एवं दुर्गम क्षेत्रों के निवासियों को जानकारी के माध्यम से विधिक सेवा संस्थानों की कार्यप्रणाली से अवगत करवाना तथा निःशुल्क विधिक सेवाएं उपलब्ध करवाना है।

उन्होंने कहा कि आउटरीच कार्यक्रम के तहत सभी को भारत के संविधान द्वारा प्रदत्त उनके विधिक अधिकारों की जानकारी दी जा रही है तथा अन्य कल्याणात्मक प्रावधानों के विषय में जागरूक बनाया जा रहा है। कपिल शर्मा ने कहा कि अभियान के सफल कार्यान्वयन के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आउटरीच टीमें गठित की गई हैं।

इन टीमों में अधिवक्ता, पैरालीगल वोलेंटियर, विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं कर्मचारी, स्वयंसेवी संगठनों के सदस्य, आंगनबाड़ी तथा आशा कार्यकर्ता, युवक मण्डलों के सदस्य तथा विभिन्न ग्राम पंचायतों के चुने हुए प्रतिनिधि सम्मिलत हैं।